मंगलवार, जून 21, 2011

परन्तु काल वास्तव में है क्या ?

कबीर साहब बोले - ऐसे जो कल्याण मोक्ष चाहने वाले सच्चे अनुरागी हैं । वह  प्रभु के सत्यनाम ग्यान से सच्ची लगन लगाये । और भक्ति भाव में कुल परिवार सभी को भुला दे । पुत्र और स्त्री आदि का मोह मन में कभी न आने दे । और जन्म से लेकर मृत्यु तक सम्पूर्ण जीवन को स्वपन के समान समझे ।
हे धर्मदास ! इस संसार में जीवन बहुत थोङा है । और अंत में मृत्यु समय कोई मददगार कोई सहायक नहीं होता । इसलिये व्यर्थ की मोह ममता में नहीं पङना चाहिये । क्योंकि अंत में तो सभी साथ छोङ देते हैं । और जीव अपने कर्म के अनुसार अपनी गति को प्राप्त होता है । इस संसार में प्राय सभी को स्त्री बहुत प्यारी होती है । जन्म देने वाले और पालन पोषण करने वाले माता पिता भी उसके समान प्यारे नहीं लगते ।

उस पत्नी के लिये यदि उसका पति अपना सिर भी कटा दे । तो भी वह जीवन के अंत में मृत्यु के समय प्रेम करने वाली सहायक सिद्ध नहीं होती । केवल अपने स्वार्थ की पूर्ति के लिये ही रोना धोना करती है । स्वार्थ पूरा न होने पर वह शीघ्र ही अपने पति को भूलकर पीहर जाने का मन बना लेती है ।
हे धर्मदास ! जैसे सपने में  राज्य । मान सम्मान । धन संपदा । प्रेम करने वाला परिवार । एवं सहायक  मित्र आदि सभी मिल जाते हैं । परन्तु सपना समाप्त हो जाने पर नींद से जागने पर वास्तविकता का पता चलता है कि ये सब जो देखा था । वह सब केवल एक सपना ही था । ठीक वैसे ही स्त्री पुत्र परिवार के लोग धन संपत्ति आदि सपने के प्रेमी दिखाई पङते हैं । अंततः ये सब सपने की तरह ही खो जायेंगे ।
ऐसी स्थिति में उचित यही है कि इन सब सम्बन्धों को केवल कर्तव्य समझकर निबाहता हुआ परमात्मा के सत्यनाम ग्यान को स्वीकार करके इंसान अपना उद्धार करे । ये दुर्लभ नाम भक्ति ही इस लोक और परलोक में सदैव ही सहायक है ।
इस असार संसार में अपने शरीर के समान प्रिय और कोई दूसरा नहीं होता । परन्तु अंत समय में यह शरीर भी अपना साथ नहीं देता । तब ये भी साथ छोङ देता है ।
हे धर्मदास ! इस संसार में ऐसा कोई भी सामर्थ्यवान दिखाई नहीं देता । जो जीव को अंत समय में मृत्यु के मुँह में जाने से बचा ले । उस समय मनुष्य के सभी नाते रिश्तेदार यार दोस्त प्रियजन आदि सभी वेवश और असमर्थ होते हैं ।
हाँ सिर्फ़ एक हस्ती ऐसी अवश्य होती है । जिसको मैं निश्चय से कहता हूँ । लेकिन जिसके ह्रदय में उनके प्रति सच्ची प्रेम भक्ति होगी । वही उनसे लाभ प्राप्त कर पायेगा । और वह एक सदगुरु ही होते हैं । जो इस जीव को समस्त सांसारिक काल बंधनों से और काल माया जाल से मुक्त कराते हैं । मेरी यह बात तुम बिना किसी संशय के निश्चय पूर्वक मानो ।

काल यानी मृत्यु प्रत्येक व्यक्ति के जीवन में घटित होने वाला एक सत्य है । लेकिन काल काल सभी कहते तो फ़िरते हैं । परन्तु काल वास्तव में है क्या ? यह कोई नहीं जानता । सिर्फ़ इस शरीर का छूटना मरना ही काल नहीं है । वास्तव में जीव के मन में जितनी भी कल्पना है । वह सब काल ही कहलाती है ।
इन्हीं कल्पनाओं के बंधन में पङा हुआ जीव काल को प्राप्त होता है । इस संसार में जीव जिस शरीर के साथ उत्पन्न होता है । उसकी मृत्यु अवश्य होती है । लेकिन जिसका जन्म ही न हुआ हो । उसकी मृत्यु कैसे हो सकती है ?
यह सत्य है । जो पैदा होता है । केवल वही मरता है । इसलिये काल से बचने का उपाय है । जीव का पुनर्जन्म ही न हो । इसके लिये वह जिन कारण संस्कारों से यहाँ पङा हुआ है । उसे ही समूल नष्ट कर दिया जाय ।
सांसारिक मोह माया और विषय वासनाओं के बंधन में पङा हुआ अग्यानी जीव बारबार शरीर को धारण करके पैदा होता है । और मरता है । इस प्रकार वह मोहवश आवागमन के चक्र में पङा हुआ अनन्त काल से अनन्त दुखों को भोग रहा है ।
जीव की इस अग्यानता को किसी भी अस्त्र शस्त्र से काटा नहीं जा सकता । दूर नहीं किया जा सकता है । इसे केवल ग्यान युक्ति से ही काटा जा सकता है । परन्तु वह अति विलक्षण ग्यान युक्ति सिर्फ़ पूर्ण सदगुरु देव से ही प्राप्त होती है । जिस जिग्यासु इंसान के ह्रदय में मोक्ष कामना के लिये सत्य अनुराग होता है । उसे ही सदगुरु दयाभाव से सत्यग्यान प्रदान करते हैं । उस ग्यान की सच्ची भक्ति साधना से जीव आवागमन के चक्र से छूट जाता है ।  

कोई टिप्पणी नहीं:

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...