शनिवार, अप्रैल 10, 2010

शब्द क्या है ?

सबद सबद सब कोय कहे , वो है सबद विदेह . जिह्वा पर आवे नहीं , निरख परख कर लेह .
शब्द का तात्पर्य है अक्षर यानी अविनाशी तत्व जो सदा रहने वाला है . जो जगत का कारण रूप है . वह शब्द ही सारी स्रष्टि लोक लोकांतरों तथा प्रथ्वी आकाश आदि का मिला हुआ गोल रूप सबसे घिरा हुआ आलोक प्रतीत होता है . वह ब्रह्माण्ड ही है
इसमें दो ध्रुव है . एक ध्रुव से दूसरे ध्रुव के बीच एक ऐसा स्पंदन है . जिसमें अक्षर रूप ही स्पंदन है . यह शब्द दो प्रकार का है . वर्णात्मक , ध्वनात्मक . स्वांस लेने और छोङने में जो शब्द है वो वर्णात्मक है . ध्वनात्मक ध्वनिमय है . घन्टा में हथौङा मारने से एक ध्वनि पैदा होती है . वैसी ही ध्वनि इस सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड में लगातार समायी हुयी है . जो ह्रदय भाव से लगातार प्रतीत होती है यानी तत्व बोध का मार्ग रूप है . आकाश का गुण शब्द है . इसलिये यह शब्द सब जगह आकाश होने के कारण समाया है . शब्द में सुरति के बांधने से सब प्रकार के ग्यान हो जाते हैं और यह अक्षर अविनाशी है जो कभी भी नष्ट नहीं होता है . शब्द के बारे में संतो ने भेद करके बताया कि एक शब्द घटाकाश में तथा एक आकाश में निवास करता है . जिसे निःअक्षर कहा गया है .
सबद सबद सब कोय कहे , वो है सबद विदेह .
जिह्वा पर आवे नहीं , निरख परख कर लेह .
शब्द का वाक्य सब लोग कहते हैं .परन्तु जो वास्तविक अक्षर है . वह विदेह है यानी शरीर के आखिरी सिरे पर प्रकट हो रहा है . जिसको देख और पहचान ले .जो जिह्वा पर नहीं आता और न ही वह घट वाले शब्द जैसा है . वह प्राण के वाक्य
से सूक्ष्म सर्वत्र समाया हुआ है . उसे ग्यानी ही जान सकता है . जिसे आँख खोलकर तथा कान के बिना प्रत्याहार से खुले रूप में ही प्रतीत होने वाला है . ऐसा वह सुन्न में तथा सुन्न के पार स्थित है . कुदरती काबे की तू महराब में सुन गौर से आ रही है धुर से सदा तेरे बुलाने के लिये क्यों भटकता फ़िर रहा तू ए तलाशे यार में रास्ता सहरग में है दिलवर पै जाने के लिये . कुदरत ने कावा रूपी शरीर दिया है . इसमें सुन . यदि तू उस शब्द को ध्यान से सुनेगा
तो जो उस धुर से यहाँ तक जो ध्वनात्मक शब्द हो रहा है . वह तेरे ध्यान पर पङ जायेगा और यह भी महसूस होगा कि वह विदेह शब्द धागे की तरह सम्बन्ध में किये हुये है . वह बुला रहा है .उससे मिलकर खुदा से मिल जा . जो साहरग का मार्ग दसवें द्वार से होकर गया है . उसमें निर्भय होकर रम जा . रास्ता तय होने में कोई समय नहीं लगता .उस परमात्मा का साक्षात्कार प्रवेश होने पर क्षण में ही हो जाता है . जहाँ पाँच तत्वों की गाँठ बनती है वहाँ जीव में चेष्टा होने लगती है . ब्रह्म में प्रीत न होकर बाह्य विषयों में आसक्ति है तभी तक विकल्प से उत्पन्न यह जगत दिखायी देता है . ब्रह्म में चित्त की स्थिरता होने पर केवल ब्रह्म ही दिखायी देता है . राग , द्वेश , काम ,क्रोध . लोभ , मोह , छह झूलों में झुलाकर ही ये काल क्रीङा कर रहा है .

कोई टिप्पणी नहीं:

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...