शनिवार, अप्रैल 10, 2010

तप करने का अर्थ ये है कि...

शरीर और इन्द्रियों को तपाने से शक्तियों का संचय होने लगता है .तपाने या तप करने का अर्थ ये है कि मन को प्राण में और प्राण को परमात्मा में लगायें जब प्राण में प्राण का हवन किया जाता है तो प्राण में प्राण के संगत से प्राण सूक्ष्म होने लगता है तब इन्द्रियां शान्त होने लगती हैं .मन अपने दौङने की गति पर रुक कर चलता है तब बुद्धि में शुद्धता आने लगती है यानी प्राण व इन्द्रियों की गति समान होने लगती है . तब शुद्ध ध्यान परमात्मा की ओर चलता है और उस ध्यान से सारतत्व का बोध होने लगता है . लम्बा स्वर जो देर तक प्रतीत होता है . वह ध्वनि को प्रकट कर लेता है . सपेरा बीन में लगातार फ़ूँक मारकर ऐसी ध्वनि पैदा करता है तो सर्प मस्त होकर शरीर का ध्यान खो देता है इसी प्रकार शरीर रूपी बाँसुरी में जिसमें सात स्वर ऊपर की ओर और दो नीचे की ओर हो रहे हैं . उन दो नीचे वालों में एक सामने खुला , दूसरा नीचे मुख किये हुये है . ऐसी शरीर रूपी बाँसुरी में फ़ूँक मारता है तब इस शरीर रूपी बाँसुरी में वाक (वाणी ) पैदा हो जाती है जब स्वर निरन्तर ध्वनि करता है तब उस स्वर में ध्यान की संगति हो जाती है .

1 टिप्पणी:

राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ ने कहा…

मेरा ब्लागिंग उद्देश्य गूढ रहस्यों को
आपस में बांटना और ग्यानीजनों से
प्राप्त करना भी है..इसलिये ये आवश्यक नहीं
कि आप पोस्ट के बारे में ही कमेंट करे कोई
दुर्लभ ग्यान या रोचक जानकारी आप सहर्ष
टिप्पणी रूप में पोस्ट कर सकते हैं ..आप सब का हार्दिक
धन्यवाद
satguru-satykikhoj.blogspot.com

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...