शुक्रवार, फ़रवरी 10, 2012

आकार कल्पित करके देव की मिथ्या कल्पना

वसिष्ठ जी कहते हैं - जिसका अंतःकरण मुक्ति के लिए लालायित हो । सत कर्म करके शुद्ध हो गया हो । तथा ध्यान से एकाग्र हो गया हो । उसे यह उपदेश सुनने मात्र से आत्म साक्षात्कार हो जायेगा । जिन लोगों को इस ग्रंथ में इस ज्ञान में प्रीति नहीं है । वे अपरिपक्व हैं । उनको चाहिए कि वृत । उपवास । तीर्थाटन । दान । यज्ञ । होम । हवन आदि करें । इन्हें करके जब उनका अंतःकरण परिपक्व होगा । तब उनको इसमें रुचि होगी ।
भगवान शंकर वशिष्ठ से बोले - हे ब्राह्मण ! जो उत्तम देवार्चन हैं । और जिसके किये से जीव संसार सागर से तर जाता है । सो सुनो । हे ब्राह्मणों में श्रेष्ठ ! पुण्डरीकाक्ष विष्णु भी देव नहीं । और त्रिलोचन शिव भी देव नहीं । कमल से उपजे बृह्मा भी देव नहीं । सहस्र नेत्र इन्द्र भी देव नहीं । न देव पवन है । न सूर्य । न अग्नि । न चन्द्रमा । न ब्राह्मण । न क्षत्रिय है । न तुम हो । न मैं हूँ । अकृतिम । अनादि । अनन्त और संवित रूप ही देव कहाता है । आकार आदि परिच्छिन्न रूप हैं । वे वास्तव में कुछ नहीं । एक अकृतिम । अनादि चैतन्य स्वरूप देव है । वही देव शब्द का वाचक है । और उसी का पूजन वास्तव में पूजन है । जिससे यह सब हुआ है । और सत्ता - शांत आत्म रूप है । उस देव को सर्वत्र व्याप्त देखना ही उसका पूजन है । जो उस संवित तत्व को नहीं जानते । उनके लिए साकार की अर्चना का विधान है । जैसे जो पुरुष योजन पर्यन्त नहीं चल सकता । उसको 1 कोस 2 कोस चलना भी भला है । जो परिच्छिन्न ( खण्डित ) की उपासना करता है । उसको फल भी परिच्छिन्न ( खण्डित ) प्राप्त होता है । और जो अकृतिम आनन्द स्वरूप

अनन्त देव की उपासना करता है । उसको वही परमात्मा रूपी फल प्राप्त होता है । हे साधो ! अकृतिम फल त्याग कर जो कृतिम को चाहते हैं । वे ऐसे हैं । जैसे कोई मन्दार वृक्ष के वन को त्याग कर । कंटक के वन को प्राप्त हो ।
वह देव कैसा है ? उसकी पूजा क्या है ? और कैसे होती है ? सुनो ।
बोध । साम्य । और शम । ये 3 फूल हैं । बोध - सम्यक ज्ञान का नाम है । अर्थात आत्म तत्व को ज्यों का त्यों जानना । साम्य - सबमें पूर्ण देखने को कहते हैं । और शम का अर्थ है - चित्त को निवृत्त करना । और आत्म तत्व से भिन्न कुछ न देखना । इन्हीं तीनों फूलों से चिन्मात्र शुद्ध देव शिव की पूजा होती है । आकार की अर्चना से अर्चना नहीं होती ।
चिन्मात्र । आत्म संवित का त्याग कर  । अन्य जड़ की । जो अर्चना करते हैं । वे चिरकाल पर्यन्त क्लेश के भागी होते हैं । हे मुनि ! जो ज्ञात ज्ञेय पुरुष हैं । वे आत्मा भगवान एक देव है । वही शिव और परम कल्याण रूप है । सर्वदा ज्ञान अर्चना से उसकी पूजा करो । और कोई पूजा नहीं है । पूज्य । पूजक । और पूजा । इस त्रिपुटी से आत्म देव की पूजा नहीं होती ।
यह सम्पूर्ण विश्व केवल परमात्म रूप है । परमात्म आकाश बृह्म ही 1 देव कहाता है । उसी का पूजन सार है । और उसी से सब फल प्राप्त होते हैं । वह देव सर्वज्ञ हैं । और सब उसमें स्थित हैं । वह अकृत्रिम देव - अज । परमानन्द और अखण्ड रूप है । उसको अवश्य पाना चाहिये । जिससे परम सुख प्राप्त होता है ।
हे मुनीश्वर ! तुम जागे हुए हो । इस कारण मैंने तुमसे इस प्रकार की देव अर्चना कही है । पर जो असम्यक दर्शी बालक हैं । जिनको निश्चयात्मक बुद्धि नहीं प्राप्त हुई है । उनके लिए धूप । दीप । पुष्प । चंदन आदि से अर्चना 


कही है । और आकार कल्पित करके देव की मिथ्या कल्पना की है । अपने संकल्प से जो देव बनाते हैं । और उसको पुष्प । धूप । दीप आदि से पूजते हैं । सो भावना मात्र है । उससे उनको संकल्प रचित फल की प्राप्ति होती है । यह बालक बुद्धि की अर्चना है ।
हे मुनीश्वर ! हमारे मत में तो देव और कोई नहीं । एक परमात्म देव ही तीनों भुवनों में है । वही देव शिव और सर्व पद से अतीत है । वह सब संकल्पों से अतीत है । जो चैतन्य तत्व अरुन्धती का है । और जो चैतन्य तत्व तुम निष्पाप मुनि का । और पार्वती का है । वही चैतन्य तत्व मेरा है । वही चैतन्य तत्व त्रिलोकी मात्र का है । वही देव है । और कोई देव नहीं । हाथ पाँव से युक्त जिस देव की कल्पना करते हैं । वह चिन्मात्र सार नहीं है । चिन्मात्र ही सब जगत का सार भूत है । और वही अर्चना करने योग्य है । यह देव कहीं दूर नहीं । और किसी प्रकार । किसी को प्राप्त होना भी कठिन नहीं । जो सबकी देह में स्थित । और सबका आत्मा है । वह दूर कैसे हो । और कठिनता से कैसे प्राप्त हो ? सब क्रिया वही करता है । भोजन । भरण । और पोषण । वही करता है । वही स्वांस लेता है । सबका ज्ञाता भी वही है । मन सहित षट इन्द्रियों की चेष्टा निमित्त तत्व वेत्ताओं ने देव कल्पित की है । एक देव । चिन्मात्र । सूक्ष्म । सर्व व्यापी । निरंजन । आत्मा । बृह्म इत्यादि नाम ज्ञान वानों ने उपदेश रूप व्यवहार के निमित्त रखे हैं । वह आत्म देव नित्य । शुद्ध और अद्वैत रूप है । और सब जगत में अनुस्यूत है । वही चैतन्य तत्व चतुर्भुज होकर दैत्यों का नाश करता है । वही चैतन्य तत्व त्रिनेत्र । मस्तक पर चन्द्र धारण किये । वृषभ पर आरूढ़ । पार्वती रूप कमलिनी के मुख का भँवरा बनकर । रूद्र होकर स्थित होता है । वही चेतना विष्णु रूप सत्ता है । जिसके नाभि कमल से बृह्मा उपजे हैं । वह चैतन्य मस्तक पर चूड़ामणि धारने वाला त्रिलोक पति रूद्र है । देवता रूप होकर वही स्थित हुआ है । और दैत्य रूप होकर भी वही स्थित है । हे मुनीश्वर ! वही चेतन शिव रूप होकर उपदेश दे रहा है । और वही चेतन वशिष्ठ होकर सुन रहा है । उस परम चैतन्य देव को जानना ही सच्ची अर्चना है ।

कोई टिप्पणी नहीं:

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...