सोमवार, जनवरी 02, 2012

श्री महाराज जी की अमृतवाणी - 4

जय गुरुदेव जी की । नमस्कार राजीव जी । जब गुरु जी और ओमदत्त बाबा मेरे घर आये थे । तो जब मदन जी । मिन्टू जी और उनके 2 और फ़्रेण्डस महाराज जी से सतसंग सुन रहे थे । और मिन्टू के ब्रदर गुरु जी से तर्क कर रहे थे । तो हमने रिकार्डिंग कर ली थी । कहीं कहीं पर आवाज क्लियर नहीं है । आप चैक कर लेना । और जो मैटर पोस्ट करने योग्य हो । वो ब्लाग पर पोस्ट कर देना ।
धन्यवाद । आपका - कुलदीप सिंह । चण्डीगढ ।
**********

कोई टिप्पणी नहीं:

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...